.
Skip to content

जनता और जनार्दन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

कविता

September 7, 2017

जनता और जनार्दन
………………………
चूनावी जंग को तैयार
नेता जी निकल पड़े
देख सुखियि को रासते में
मन ही मचल पडें
गाड़ी रोक रास्ते में
जमीन पे उतर पड़े।
रोक रास्ता सुखीया का
पूछने लगे हाल
मेरे भाई इस कदर
क्यो लग रहा बेहाल।
आखिर वो वजह क्या
जो तेरा यह हाल है
सर पे छत ना लगता तेरे
ना पौकेट में माल है।
देख सम्मुख नेता जी को
सुखिया कुछ हैरान हुआ।
चीकनी चूपड़ी बातों को
सून-सून कर परेशान हुआ।
बोला मै गरीब हूँ
अब मौत के करीब हूँ
घर है टूटा-फूटा
ना घर में रोटी दाल है
जाडे़ का मौसम चल रहा
कम्बल है ना शाल है।
सुनकर बात सुखिया का
नेता जी सकुचाये,
कुटिल मुस्की लेकर मुख पे
थोड़ा सा मुस्काये।
फिर बोले
इस बार जीता दे मुझे
तेरा घर बनवा दुंगा,
जड़ा हो या गर्मी
कम्बल भी बटवा दुंगा।
जब तक काम ये पूरे ना हों
तब तक चैन न पाऊंगा
मायाधर ने सोचा तब हीं
जन-जन को चूना लगाऊंगा।
मायापति के बातों में
सुखिया आ चूका था
नेता जी की शख्सियत
उसे भा चूका था।
सुखिया खूदको ही
विधायक समझने लगा
हाथ मिलाया मायाधर से
संग- संग चलने लगा।
सोचता रहा मन में
नेता जी उदार है
कितने स्वच्छ, कितने सुन्दर
सरकार के विचार हैं।
इस दफा निश्चय ही
मैं मतदान करूँगा,
अपना ये बहुमूल्य मत
नेता जी के नाम करूँगा।
नेता जी की उदारता
मैं सबको बतलाऊंगा,
अपने साथ सौ दोसौ को
इनके पाले में लाऊंगा।
नेता जी को संग में लेकर
अपने घर वो आया,
गांव में जितने लोग बसे थे
सबको वहाँ बुलाया।
नेता जी ने शुरु की भाषण
जन-जन को भरमाया,
मुफ्त में चावल दाल मिलेगा
जनता को बतलाया।
अबकी जो हम जीत गये
पानी का नल लगवा देंगे,
टूटे-फूटे घर है जितने
पक्के हम बनवाँ देंगे।
हुआ चूनाव नेता जी जीते
दिल सुखिया का तोड़ गये,
जनता से जो किये थे वादे
बन्डल ही वह फोड़ गये।
फिर मौसम निर्वाचन का है
आप भी सुखिया मत बनना,
“सचिन” जो नेता सच्चा लगता
आप उसीको ही चूनना।
लेकिन मतदान पुनः करना।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
5/2/2017
जय हिन्द, जय भारत।
जय मेधा,जय मेधावी भारत।

Author
पं.संजीव शुक्ल सचिन
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
चित्रकूट देख लो जी
Sonu Jain कविता Nov 13, 2017
आज चित्रकूट का कमाल देखलो जी,, अध्यापक किसान का धमाल देखलो जी,, हर बूथ हर गाँव मे बीजेपी बुरा हाल देखलो जी,, काम अधूरे कोरी... Read more
दोहे ...टोपी, नेता और जनता
टोपी का उपयोग अब, नेता की पहचान। कुरता भी अब बन गया, नेता जी की शान।। टोपी हाथी पर चढ़ी, कहीं साइकिल संग। हाथ हिलाती... Read more
नेता जी
भोली भाली जनता को ना मूर्ख बनाओ नेता जी ! जीत गए अब पाँच साल तुम मौज मनाओ नेता जी !! हम गरीब का दाल,... Read more
नेता जी को चढ़ा बुखार  क्यूंकि चुनाव पड़े है अबकी बार
नेता जी को चढ़ा बुखार क्यूंकि चुनाव पड़े है अबकी बार गड़े मुद्दे नेता जी ने दिये उखाड़ हिन्दू मुस्लिम जात - पात का मुदा... Read more