Skip to content

बेटी की महिमा

Rita Singh

Rita Singh

कविता

January 12, 2017

सूखा पीड़ित देख नगरी को
बेटी ने अवतार लिया ,
धरती से उत्पन्न होकर उसने
जनता का उद्धार किया ।
अन्न जल बरसा जनकपुरी में
पिता जनक को मान दिया ,
पितृ कुल की पहचान बनी वो
जानकी उसने नाम लिया ।
राजा कुंतीभोज सदा ही
बेटी कुंती पर गर्वित होते थे
जिसके सेवा सुशील गुणों से
दुर्वासा भी प्रसन्न रहते थे ।
दे दी शक्ति जिसे मुनिवर ने
देवों के भी आह्वान की
वो कुंतीभोज की बेटी कुंती
बनी निर्मात्री पांडु कुल की ।
यज्ञ से उत्पन्न हुई याज्ञसैनी
जो महाराज द्रुपद की बेटी थी
कुरूवंश की कुरूपता की
वो प्रमुख संहारक थी ।
कर प्रतिग्या अधर्म नाश की
भगवन का उसने नाम लिया ,
रक्षा कर नारी सम्मान की
प्रभु ने भी उसको मान दिया ।
राजर्षि अश्वपति की कन्या
सावित्री अटल व्रतधारी थी,
यमदेव की अमिट नियमावली
उसके ही समक्ष हारी थी ।
वह ऐसी बेटी थी जिसने
जीवन को भी जीत लिया,
पिता – पति दोनों के कुल का
उज्ज्वल उसने नाम किया ।
हर युग में , हर काल में
बेटी ने पहचान बनायी है ,
त्रेता,द्वापर से कलयुग तक
बेटी की महिमा छायी है ।
वेद पुराण और महाकाव्यों ने
बेटी की महिमा को गाया
बड़ा अभागा है वो समाज जो
गुण बेटी के जान न पाया ।

डॉ रीता
एफ-11,फेज़-6
आया नगर,नई दिल्ली- 47

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more