Skip to content

जनक छन्द

महावीर उत्तरांचली

महावीर उत्तरांचली

कविता

January 30, 2017

१.
जनक छंद की रौशनी
चीर रही है तिमिर को
खिली-खिली ज्यों चाँदनी
२.
भारत का हो ताज तुम
जनक छंद तुमने दिया
हो कविराज अराज तुम
३.
जनक छंद सबसे सहज
तीन पदों का बंद है
मात्रा उनतालिस महज
४.
कविता का आनन्द है
फैला भारतवर्ष में
जनक पूरी का छंद है
५.
सुर-लय-ताल अपार है
जनक छंद के जनक का
कविता पर उपकार है
६.
पूरी हो हर कामना
जनक छंद की साधना
देवी की आराधना
७.
छंदों का अब दौर है
जनक छंद सब ही रचें
यह सबका सिरमौर है
८.
किंचित नहीं विवाद यह
गद्य-पद्य में दौड़ता
जीवन का संवाद यह
९.
ईश्वर की आराधना
शब्दों को लय में किया
कवि की महती साधना
१०.
यूँ कविता का तप करें
डोले आसन देव का
ऋषि-मुनी ज्यों जप करें
११.
तीन पदों का रूप यह
पेड़ों की छाया तले
छांव अरी है धूप यह
१२.
बात हृदय की कह गए
जनक छंद के रूप में
सब दिल थामे रह गए
१३.
उर में यदि संकल्प हो
कालजयी रचना बने
काम भले ही अल्प हो
१४.
सोच-समझ कर यार लिख
अजर-अमर हैं शब्द तो
थामे कलम विचार लिख
१५.
काल कसौटी पर कसे
गीत-ग़ज़ल अच्छे-बुरे
‘महावीर’ तुमने रचे
१६.
रामचरित ‘तुलसी’ रचे
सारे घटना चक्र को
भावों के तट पर कसे
१७.
जीवन तो इक छंद है
कविता नहीं तुकांत भर
अर्थ युक्त बंद है
१८.
कर हिसाब से मित्रता
ज्ञान भरी नदिया बहे
कर किताब से मित्रता
१९.
मीर-असद की शायरी
लगे हमारे सामने
बीते कल की डायरी
२०.
कविता को आला किया
मुक्त निराले छंद ने
हर बंद निराला किया
२१.
बच्चन युग-युग तक जिए
जीवन दर्शन दे रहे
मधुशाला की मय पिए
२२.
‘परसाई’ के रंग में
चलो सत्य के संग तुम
व्यंजित व्यंग्य तरंग में
२३.
अपने दम पर ही जिया
वीर शिवाजी-सा नहीं
जिसने जो ठाना किया
२४.
काल पराजित हो गया
सावित्री के यतन से
पति फिर जीवित हो गया
२५.
राम कथा की शान वह
है वीर ‘महावीर’ इक
बजरंगी हनुमान वह
२६.
वेदों का गौरव गिरा
करके सीता का हरण
रावण का सौरव गिरा
२७.
दैत्य अक्ल चकरा गई
व्यर्थ किया सीता हरण
देवी कुल को खा गई
२८.
माया मृग की मोहिनी
हृदय हरण करने लगी
सीता सुध-बुध खो रही
२९.
राजा बलि के दान पर
विष्णु अचम्भित से खड़े
लुट जाऊं ईमान पर
३०.
कहर सभी पर ढा गया
जिद्दी दुर्योधन बना
पूरे कुल को खा गया
३१.
बनी महाभारत नई
घात करें अपने यहाँ
भाई दुर्योधन कई
३२.
गंगा की धारा बहे
धोकर तन की गंदगी
मन क्यों फिर मैला रहे
३३.
लक्ष्मी ठहरी है कहाँ
इनकी किससे मित्रता
आज यहाँ तो कल वहाँ
३४.
बात करो तुम लोकहित
अच्छा-बुरा विचार लो
काज करो परलोक हित
३५.
अपना-अपना हित धरा
किसको कब परवाह थी
गठबंधन अच्छा-बुरा

३६.
राजनीति सबसे बुरी
‘महावीर’ सब पर चले
ये है दो धारी छुरी
३७.
बनी बुरी गत आपकी
रक्षाकर्मी रात-दिन
सेवा में रत आपकी
३८.
भाषा भले अनेक हैं
दोनों का उत्तर नहीं
उर्दू-हिंदी एक हैं
३९.
हिंदी की बंदी बड़ी
नन्हे-नन्हे पग धरे
दुनिया के आगे खड़ी
४०.
सकल विश्व है देखता
अनेकता में एकता
भारत की सुविशेषता
४१.
भारत का हूँ अंग मैं
मुझको है अभिमान यूँ
मानवता के संग मैं
४२.
भारत ऐसा देश है
मानवता बहती जहाँ
सबको यह सन्देश है

•••

Share this:
Author
महावीर उत्तरांचली
एक अदना-सा अदबी ख़िदमतगार

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you