जज्बा ए मर्दां

मुक्तक,,,
तुम्हारा इक इक बोल क़तरा है ,
शहद का।
तुम्हारा इक इक बोल मिसरा है,
अहद का।
मंज़िल करेगी ख़ैरमक़दम देखना,
अवधूत,।
तुम्हारा इक इक बोल जजबा है,
जहद का।

22 Views
You may also like: