.
Skip to content

~~~जज्बात~~~

Vinod Chadha

Vinod Chadha

कविता

October 4, 2016

इतने
जज्बात निकलेँगेँ
दिल से मेरे
कभी सोचा न था

सोने न देंगें
चैन से
रात भर मुझे
कभी सोचा न था

बयां कब तक करूँ
कहाँ तक करूँ
ख़त्म न होंगें यह
कभी सोचा न था

लिखते लिखते
थकने लगी हैं
उंगलियां भी मेरी
निकलते रहेंगें
यह हर रोज इस तरह
कभी सोचा न था

थक जाएँगे लोग भी
पढ़ते पढ़ते
यह अशफाक मेरे
उफ़…कब ख़त्म होगा
यह सिलसिला
कभी सोचा न था ।।

…विनोद चड्ढा…

Author
Vinod Chadha
Recommended Posts
कोहरा
बहुत सोचा कि अश्को को भुला फिर मुस्कुराऊंगी कभी मुझसे कभी तुमसे गल्तियां हो ही जाती हैं न बिसरी धूप की रंगत तेरे सपने मेरे... Read more
!! याद जो दिल से जाती नहीं !!
न कोई चिंता थी मन में न कुछ कोई कभी सोचा था वो बचपन का साथ छोड़ जाना यह शायद कभी सोचा न था !!... Read more
ए- ज़िन्दगी आ तेरा हिसाब कर दूँ
ए ज़िन्दगी आ तेरा हिसाब कर दूँ तूने जो सुख् और दुःख दिए हैं मुझे बचपन से जवानी और अब बुढ़ापे तक कभी ज़ीता था... Read more
लिखते  रहते है
गुल तो गुलशन में रोज खिलते रहेते है कभी नए तो कभी पुराने मिलते रहते है तुम भी कदर् करो क्यों आखिर मेरे इन जज्वातो... Read more