.
Skip to content

“जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया “

दुष्यंत कुमार पटेल

दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

कविता

January 17, 2017

यहाँ अजन्मी मर जाती है,
क्यों माँ कि कोख पर बिटिया|
देवी का अनूप रुप है,
जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया |
संस्कार धरोहर आन शान,
रीत प्रीत धन है बिटिया |
ईश्वर का अनुनय अनुराग है ,
रब कि अमानत है बिटिया|

मासूम कली है बाबुल की,
घर आँगन की किलकारी |
सुकुमारी राजदुलारी है,
हर बिटिया राजकुमारी|
बिटिया कन्या रुपी रत्न है,
जग में है सबसे प्यारी |
पढा लिखा कर उसे संवरना,
सबकी है जिम्मेदारी |

है लाड़ली सयानी बिटिया,
नव खुशियों की है धानी |
खेल-खिलौने टेड़ी बियर कि,
मेरी बिटिया दीवानी |
जग सिध्दि समृध्दी शांति क्रांति,
चन्द्रसूर्य बिटिया रानी |
तरणी हिम्मती करुणामयी,
जग जननी बिटिया रानी |

खेली कूदी बिटिया रानी,
बाबुल के घर आँगन में |
वो छोड़ चली बाबुल घर को,
बंध गया गठबंधन में |
ससुराल चली बिटिया मेरी,
मीठा कसक आज मन में |
है गुपचुप ना कोई आहट,
सूनापन है आँगन में |

उस घर को भी बिटिया तुम,
रीत प्रीत से महकाना |
सबकी यादें दिल में रखना,
पापा को भूल न जाना |
तुमको घर की याद सतायें,
तो तुम मिलने आ जाना |
वो मेरी शहजादी बिटिया ,
यूँ ही हँसना मुस्काना |

नज़रिया घिनौना सोच बदल,
अन्तर्मन को निर्मल कर |
माल लालीपाप नाम नहीं ,
फ़िल्मी स्टाईल बंद कर |
कुदृष्टि का सर्वनाश कर,
बेटियों का सम्मान कर |
बिटिया है पावन गंगा सी,
अब प्रण करले न मलिन कर |

रचनाकार :-दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

Author
दुष्यंत कुमार पटेल
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com
Recommended Posts
बिटिया
कहत बिटिया धन हौत पराव । दो कुल की मर्यादा बेटिया फिर जो काय दुराव कहत विटिया धन......... मातपिता घर देबी रूपा महा लक्ष्मी पति... Read more
बिटिया हमारी
-: बिटिया हमारी :- अभिश्राप नही है जग को एक अनमोल वरदान है नारी बेटा अगर है चिराग घर का, तो रोशनी की किरण है... Read more
__जिग़र का टुकड़ा होती है बिटिया___
बिदाई के दिन जिगर का टुकड़ा होती है बिटिया... मगर जन्म होने पर क्यों शोक होती है बिटिया... . निर्मल संस्कारों की छाँव में पलती... Read more
बिटिया
घर आँगन की शान है बिटिया,माँ की जैसे जान है बिटिया बिटिया घर की रौनक होती, चेहरे की मुस्कान है बिटिया ख़ुशी ख़ुशी हर गम... Read more