जंगल में पाठशाला

गीदड़ को पढ़ने जाना है
पढ़ लिखकर बाबू बनना है
जंगल का राजा बन करके
शेर की तरह शासन करना है

गधे को गीदड़ की भांति
पढ़कर नाम कमाना है
मगर करें क्या ये अब दोनों
शेर ने राज़ जमाया है

गीदड़ और गधा मिलकर के
शेर के पास गए जब मिलने
पढ़ लिखकर बनना बाबू है
शेर को यही बताया है

शेर गुर्रायाता गरजाता है
गीदड़ गधा सहम हैं जाते
शेर के आगे शीश झुकाते
कहते अब हमें जाना है

पढ़ना लिखना नहीं है करना
भूल यही अब जाना है
शेर का गुस्सा हुआ है शांत
बोला मुझसे मत डरो यार

पढ़ना-लिखना है अच्छी बात
जंगल में ऐलान यह कर दो
पढ़ो-लिखो सब ज्ञान भरो
जंगल को आबाद करो

ज्ञान का दीप जहाँ जलता है
नया उजाला लाता है
तम को हरता रोशन करता
समृद्ध खुशहाल जग हो जाता है

शेर की ऐसी वाणी सुनकर
जंगल के सब प्राणी आते
शीश झुकाते नमन है करते
शेर की जय जयकार हैं करते ।।

1 Like · 60 Views
Copy link to share
#18 Trending Author
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र... View full profile
You may also like: