Oct 25, 2020 · बाल कविता
Reading time: 1 minute

जंगल की रामलीला

जंगल में हुई रामलीला
चुना एक ऊँचा सा टीला
बनी लोमड़ी सीता रानी
और राम जी लोमड़ ज्ञानी
तीन शेर भाई रघुराई
हाथी बने विभीषण भाई
काला भालू रावण बनकर
ले आया सीता को हरकर
हनुमान जी बना जो वानर
उधम मचाया लंका जाकर
सीता जी को शीश नवाया
फिर लंका को पूर्ण जलाया
रामचिन्ह चूड़ामणि देकर
चले मुद्रिका उनसे लेकर
पता राम जी ने जब पाया
सागर पर फिर पुल बनवाया
उधर विभीषण ने समझाया
पर रावण को तनिक न भाया
इतने कड़वे वचन सुनाये
शरण राम की तब वो आये
भेद बताया जब रावण का
आया काल तभी दुश्मन का
लंका नरेश बने विभीषण
सीता का पर अग्नि परीक्षण
और राम ने सीता त्यागी
थे वो मर्यादा अनुरागी
बात नहीं पर सबको भाई
तभी रामलीला रुकवाई
कहा राम आदर्श हमारे
किये काम भी मंगल सारे
कृत्य नहीं ये हमको भाया
अपनी सीता को ठुकराया
नहीं करेंगे इसका मंचन
फूँका रावण किया समापन

25-10-2020
डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

2 Likes · 87 Views
Copy link to share
#13 Trending Author
Dr Archana Gupta
998 Posts · 123.6k Views
Follow 77 Followers
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी तो है लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद... View full profile
You may also like: