छोड़ के कंचन महल अटारी

????
छोड़ के कंचन महल अटारी,
जोगन रूप सजाऊंगी……
वृन्दावन की कुन्ज गली में,
अपनी कुटी बनाऊंगी…..
?
लट चिपकाऊ,भस्म रमाऊं,
लोकलाज बिसराऊंगी……
मन में तेरी मोहनी सुरत,
ले करताल बजाऊंगी……..
?
सास-ससुर की कही ना मानूं,
घुंघट मुख ना छिपाऊंगी……
लोग कहे मीरा भई बावरी,
लोक लाज बिसराऊंगी……..

???? —लक्ष्मी सिंह?☺

154 Views
लक्ष्मी सिंह
लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली
727 Posts · 254.8k Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: