Skip to content

छोटी सी भूल

हरीश लोहुमी

हरीश लोहुमी

कविता

May 27, 2016

************************************
छोटी सी भूल
************************************
मैं इक झौंका मस्त पवन का,
तू फूलों की शहजादी,
मैंने थोड़ी सी हलचल की,
तूने खुशबू फैला दी ।

स्वयं निमंत्रण भी दे डाला,
उन अनजाने भौंरों को,
जिनकी नीयत बदली-बदली,
छोड़ चले जो औरों को ।

आसमान मैं उड़ते बादल,
तुझ पर नज़रें रखते हैं,
चाँद-सितारे भी छुप-छुप कर,
बातें तेरी करते हैं ।

गुलशन में हो रहा आजकल,
चर्चा तेरी जवानी का,
दिल मचले हैं रस पीने को,
रूप तेरे नूरानी का ।

पर तू है नादान रूपसी ,
भूल न ऎसी कर जाना,
कहीं न चुन ले तुझे डाल से,
कोई निर्मोही अनजाना ।

किसी अजनबी की बातों में,
आकर बहक न जाना रे !
छोटी सी इक भूल के कारण,
पड़े न फिर पछताना रे !

**************************************
(हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ, उ॰ प्र॰)
**************************************

Share this:
Author
हरीश लोहुमी
कविता क्या होती है, नहीं जानता हूँ । कुछ लिखने की चेष्टा करता हूँ तो फँसता ही चला जाता हूँ । फिर सोचता हूँ - "शायद यही कविता हो जो मुझे रास न आ रही हो" . कुछ सामान्य होने... Read more
Recommended for you