23.7k Members 50k Posts

छोटा जीवन

हमने छोटे जीवन मे बडे कर्म करके देखे हैं ।
हमने अपने आप से भी गलती पर लडकर देखे हैं ।
सही गलत का भेद बताया जो सबने
वही बात अपना आगे पथपर चलकर देखे हैं ।
रही कसर है जो जीवन मे अर्पित है सच पर
हम जलकर अपने जीवन को ऋत पर कसकर देखे हैं ।

10 Views
Vindhya Prakash Mishra
Vindhya Prakash Mishra
नरई चौराहा संग्रामगढ प्रतापगढ उ प्र
339 Posts · 21.6k Views
विन्ध्यप्रकाश मिश्र विप्र काव्य में रुचि होने के कारण मैं कविताएँ लिखता हूँ । मै...