गीत · Reading time: 1 minute

छिपा है कच्चे धागे में,बहन भाई का प्यार

छिपा है कच्चे धागे में,बहन-भाई का प्यार।
अरे!ये आया-आया रे,रक्षाबंधन त्योहार।।

हुई है राजी बहना तो,सजा लाई है थाल।
खिला मीठा बाँधी राखी,लगाकर टीका भाल।
लिया भाई ने सुरक्षा-प्रण,किया आदर सत्कार।
अरे!ये आया-आया रे,रक्षाबंधन त्योहार।।

कहे हर बहना भाई से,करे वो सबका मान।
सभी की बहनों को समझे,उसी के एक समान।
तभी होगा उत्सव हर घर,तभी महकेगा द्वार।
अरे!ये आया-आया रे,रक्षाबंधन त्योहार।।

करें नीयत काग़ज़ जैसी,नयन दर्पण से साफ़।
खिलेंगे रिश्ते-नाते जब,सही होगा इंसाफ़।
सभी अपने कौन पराया,न तानों तुम तलवार।
अरे!ये आया-आया रे,रक्षाबंधन त्योहार।।

छिपा है कच्चे धागे में,बहन-भाई का प्यार।
अरे!ये आया-आया रे,रक्षाबंधन त्योहार।।

-आर.एस.प्रीतम
सर्वाधिकार सुरक्षित–radheys581@gmail.com

2 Likes · 37 Views
Like
You may also like:
Loading...