छाया अंबा की// हाइकु//

[1]
छाया अंबा की
मेरे सुखी जीवन
हूँ गुलजार !!

[२]
अम्बर नीला
हरी भरी धरती
बहती नदी !

[3]
राधा नगरी
श्याम का आगमन
प्रीत संगम !!

[4]
न्याय नगरी
गुनाह होते रोज
किसका दोष !!

[5]
धरती प्यासी
खिले सावन धुप
कृषा की आस !!

[6]
चिड़ियाँ प्यासी
तपता रेगिस्तान
है हलचल !!

[7]
पत्थर दिल
तुझे माना है रब
क्योकि सितम !!

3 Comments · 30 Views
Copy link to share
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing -... View full profile
You may also like: