.
Skip to content

छलक पड़ती हो तुम कभी.. .

Neeraj Chauhan

Neeraj Chauhan

मुक्तक

July 17, 2017

छलक पड़ती हो तुम कभी , एक कशिश छोड़ जाती हो
भिगाती बारिशें हैं मुझे, तुम तपिश छोड़ जाती हो
अलग बहता हूँ तुमसे मैं, कभी जब बहकने लगता हूँ
मुझसे तब मिलन खातिर, किनारे तोड़ आती हो..

© नीरज चौहान

Author
Neeraj Chauhan
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।
Recommended Posts
*   तेरी मुस्कुराहट *
प्रेम सागर उथला है थाह कभी आती नहीं । इक बार डूबने से चाह कभी जाती नहीं ।। *बहुत प्यारी तेरी मुस्कुराहट * दिल को... Read more
मुझ में तुम हो तुम में मैं हूँ
दिल के कोने में हसरतों को छिपा कर न रखना बातें जो भी हों उसे साझा जरूर करना बड़ी तकलीफ देती हैं अनकही बातें तुम... Read more
स्वप्नलोक
महज स्वपनलोक की सैर से उत्पन्न कविता सदियों से एक सपना है... कहो पूरा करोगे तुम ? भूल जाओ मेरे सिवा सब कुछ .... कहो... Read more
तुम
RAJENDRA JOSHI शेर Jan 31, 2017
आलमारी में रखी किसी पुरानी तस्वीर की तरह, पहले कभी खोयी पर अब मिल क्यूं नहीं जाती, तुम मेरे ज़हन की भूली बिसरी यादों की... Read more