Jun 10, 2021 · गीत
Reading time: 1 minute

छम छम नाच रहीं हैं बूँदें

छम छम नाच रहीं हैं बूँदें
गातीं सरगम कानों में।
मचल रहा है दिल उल्फ़त का
कोयल कूँके बागों में ।
छम छम नाच रहीं हैं बूँदें……!

कोलाहल करती है दामिन
मन को दहला जाती है ।
पवन हिलोरें लेती आये
गीत सुरीले गाती है।
छम छम नाच रहीं हैं बूँदें……!

नन्हीं नन्हीं बुंदियाँ देखो
मस्तक मेरा चूम रहीं।
थाम कलाई शाखाएँ सब
मस्त मगन हो झूम रहीं।
छम छम नाच रहीं हैं बूँदें……!

पातों के संग करें ठिठोली
झूला खूब झुलाती हैं।
सावन की ये मस्त बहारें
मुझको पास बुलाती हैं।
छम छम नाच रहीं हैं बूँदें…….!

©✍डॉ० प्रतिभा ‘माही’

4 Likes · 4 Comments · 120 Views
Copy link to share
Dr. Pratibha Mahi
63 Posts · 4.3k Views
Follow 8 Followers
मैं प्रेम श्रृंगार लिखती हूँ...सुरों के साज़ लिखती हूँ... लिखती हूँ रब के अनमोल वचन....और... View full profile
You may also like: