.
Skip to content

छः मुक्तक

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

मुक्तक

September 15, 2016

छः मुक्तक
★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
1-
तड़पता हूँ मैँ रोजाना सनम तेरी ही चाहत मेँ
मगर ये तारिखोँ पे तारिखेँ खलतीँ मुहब्बत मेँ
कभी तो जानेमन तुमसे मिलन का फैसला आये
मुकदमा रोज चलता है मेरे दिल की अदालत मेँ
2-
नहीँ ये जिँदगी मेरी किताबोँ की कहानी है
है ग़म जितना कलेजे मेँ कहाँ आँखोँ मेँ पानी है
जो बातेँ जानलेवा हैँ बयाँ होतीँ नहीँ यारोँ
कि भीतर दर्द के जलवे कहाँ बाहर निशानी है
3-
रोग दिमागी ज्वर कि भाई जिन बच्चोँ को खाता
सोचो कैसे जिन्दा रहतीँ उन बच्चोँ की माता
जिन्दा लाश बने फिरतीँ हैँ आँखेँ हैँ पथराईँ
पर मस्ती मेँ झूम रहे हैँ मेरे भाग्य विधाता
4-
जैसे खुजली मेँ या हम किसी दाद मेँ
दिल को खुजला रहे हैँ तेरी याद मेँ
एक मरहम जरा प्यार के नीम का
भेज दो बात बाकी भले बाद मेँ
5-
लबोँ पे लब के अंगारे इरादोँ मेँ क़यामत है
जले शोला बदन तेरा कि आँखोँ मेँ इजाज़त है
बड़ा तड़पा हूँ जानेमन अकेले मेँ जुदाई मेँ
जरा पहले कहा होता हमेँ तुमसे मुहब्बत है
6-
धरती कैसे सह पायेगी इतना बोझ अपार
अगर उजाले का करता है अंधेरा व्यापार
सोच रहा हूँ हो सकता क्या सूरज मेँ भी दाग?
जैसे दाग बटोरे चलती है दागी सरकार

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
गीत- चलो इश्क मेँ भी नहा लो जरा
गीत- चलो इश्क मेँ भी नहा लो जरा ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ ज़माना नहीँ ढूँढ पाये हमेँ हँसीँ गेसुओँ मेँ छुपा लो जरा कि मौसम जवाँ मनचला आसमाँ... Read more
ग़ज़ल- सबको खोया है आजमाने में
ग़ज़ल- सबको खोया है आजमाने में ★★★★★★★★★★★★ मुझसा पागल कहाँ जमाने मेँ सबको खोया है आजमाने मेँ कैसे कैसे सवाल करता है जैसे बैठा हूँ... Read more
गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना...
गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना... ★★★★★★★★★★★★★★★★★★★ बिन सोचे तुम खो मत जाना अनजाने के प्यार मेँ मन के छोटे लोग बहुत... Read more
टूटकर बिखरने का हौसला नहीँ है
मुझे आपसे कोई गिला नहीँ है मेरी किस्मत मेँ ही वफा नहीँ है टूटने को तो मै सौ बार टूटा हूँ टूटकर बिखरने का हौसला... Read more