छंद

*कुंडलिनी*
मानस के हो बिंब तुम, कहाँ छुपाऊँ प्यार।
हृदय रखा है सामने , कर लो तुम स्वीकार।
कर लो तुम स्वीकार, बने मन मेरा पावस।
प्रेमांकुर के पुष्प, करें शुचि सुरभित मानस।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

17 Views
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078
You may also like: