चोर चोर मौसेरे भाई।

चोर चोर मौसेरे भाई।
हम नेता खाएंगे मलाई।।

बोतल बदली ‘धवल’ हो गई,
दारू वही, वही उबकाई।।

कितने भी चश्मे बदलें हम,
तकदीरों में लिखी रुलाई।।

सगरे नेता देवर बन गए
मतदाता सबकी भौजाई।।

जंघिया बनियाइन में निकले
खरबों की अब है ठकुराई।।

एक बात में सब माहिर हैं
पानी में दें आग लगाई।।

नेता प्रेतयोनि का वंशज
‘धवल’ वेष में विचरे भाई।
चोर चोर मौसेरे भाई।।

रचना -प्रदीप तिवारी ‘धवल’

601 Views
Copy link to share
मैं, प्रदीप तिवारी, कविता, ग़ज़ल, कहानी, गीत लिखता हूँ. मेरी तीन पुस्तकें "चल हंसा वाही... View full profile
You may also like: