.
Skip to content

चोरी के दोहे

साहेबलाल 'सरल'

साहेबलाल 'सरल'

दोहे

January 26, 2017

चोरी के दोहे

चोरी की सापेक्षता, स्वारथ करती सिद्ध।
पल में मौसेरा बने, होने को परसिध्द।।

अपने अंतर में अगर, बैठा छिपकर चोर।
लात जोर से मारकर, कर देना कमजोर।।

मानदण्ड सबके अलग, कह दे किसको चोर?
अपने खातिर और है, उसके खातिर और।।

भिन्न भिन्न की भिन्नता, भिन्न भिन्न के चिन्ह।
बना चोर सिरमौर जहाँ, मन हो जाता खिन्न।।

बिना चोर उसको कहे, कैसे पाओ ठौर।
बतलाना ईमान तो, उसको कहना चोर।।

कविता चोरों की बढ़ी, आज बड़ी भरमार।
एक चाहिये ढूँढना, पाओ कई हजार।।

Author
साहेबलाल 'सरल'
संक्षेप परिचय *अभिव्यक्ति भावों की" कविता संग्रह का प्रकाशन सन 2011 *'रानी अवंती बाई की वीरगाथा' की आडियो का विभिन्न मंचो में प्रयोग। *'शौचालय बनवा लो' गीत की ऑडियो रिकार्डिंग बेहद चर्चित। *अनेको रचनाएं देश की नामचीन पत्र पत्रिकाओं में... Read more
Recommended Posts
चोर(लघु कथा)
चोर(लघु कथा) ************ गाँव में चोरों का प्रकोप बढ़ रहा था। लोग परेशान थे।आये दिन किसी-न-किसी घर में चोरी हो जा रही थी। ग्राम प्रधान... Read more
क्षणिकाएँ
(1) मानव-जीवन , ज्यों-सरिता है। आँसू त्यों- पूरी कविता है। (2) मानव-जीवन सागर है । भरी ज्ञान की गागर है। गोता लेते गोता-खोर । बाकी... Read more
माखन चोर
क्यों मैया मुझे माखनचोर सब कहते? मैं चोरी नहीं करता। थोड़े से माखन मिश्री से भला किसका पेट मां भरता। मां कल तो हद ही... Read more
"देखा करते है तुझे हम चोरी-चोरी इश्क करते है तुझे हम चोरी-चोरी, नही हटती निगाहे चांद से मुखडे से दिल मे समाने लगी है तु... Read more