Skip to content

चेहरे पे चेहरों को लगाने लगे हैं लोग

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

December 27, 2016

221 2121 1221 2121

चेहरे पे चेहरों को लगाने लगे हैं लोग
फिर खुद को आईने से बचाने लगे हैं लोग

आदर्श आज सिर्फ़ किताबों में रह गए
माँ -बाप को भी आँख दिखाने लगे हैं लोग

मानिंद-ए- खुदा खुद को समझते थे जो यहां
मोदी के खौफ़ से वो ठिकाने लगे हैं लोग

पिंजरे में कैद करके परिंदों को खुश हुए
क्यों व्यर्थ पाप रोज़ कमाने लगे हैं लोग

लफ़्फ़ाज़-लफंगों से न करती है कँवल बात
बेशक़ मुझे मग़रूर बताने लगे हैं लोग

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
पत्थर को खुदा
पत्थर को खुदा मानने लगे है लोग इंसानो को धुत्कारने लगे है लोग। फल तो इंसानो के कर्म का ही है यहाँ पत्थर को दोषी... Read more
कतराने लगे है लोग
कतराने लगे है लोग अब तो किसी को पानी पिलाने से भी कतराने लगे है लोग ! क्या कहे सामूहिक भोज भी मुँह देख खिलाने... Read more
हज़ल
हज़ल। भूरे लोग करिया लोग। तपे हुए है सरिया लोग।। ज्यादा शान दिखाते अक्सर। दिखने वाले मरिया लोग।। बीती बातें सिखलाती हैं। बने ना दिल... Read more
* मंज़िलों के दीप*
मेरी हिम्मत देखकर जब रास्ते चलने लगे ! मंज़िलों के दीप हर सू खुद ब खुद जलने लगे !! :::::::::::::::::::::::: हसरतें दिल की जगी सब... Read more