Skip to content

चेतन बनिए आप, नशा दुख की जड़ काका

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

कुण्डलिया

March 22, 2017

काका पीकर चिलम नित, बने साँस का रोग|
समल जगत् का रूप गह , फँसें, बने तम भोग||
फँसे, बने तम-भोग, और भ्रमरूपी हुक्का|
नाच रहे फेफड़ा, नाचता जैसे छक्का||
कह “नायक” कविराय, फेंक रोगों का चाका|
चेतन बनिए आप, नशा, दुख की जड़ काका||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

-छक्का= हिजड़ा
(छक्का स्थानीय बोली का शब्द है )
-चाका=चाक(गाडी या रथ का पहिया)

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
हिंद मैला ढो  रहा है, नशा की जम्हाई  है/कह रही हैं नशा कर लो दूर होंगीं व्याधियाँ/  स्वयं निज की  पीर भूले, नशा- हिंदुस्तान बन
जनम भू पर आज क्यों, तम-अमावस्या छाई है| हिंद मैला ढो रहा है, नशा की जम्हाई है || आदमी नंगा खड़ा या अशिक्षा की आँधिंयाँ... Read more
युवकों का निर्माण चाहिए
युवकों का निर्माण चाहिए, युवकों का निर्माण चाहिए कलियुग के कलुषित तम हिय को,चीर सके वह बाण चाहिए सज्जनता की ढाल रो रही,काम-क्रोध जयमाल हो... Read more
कलंकी
सुबह का समय था| सूरज निकला, उसकी स्वर्ण पीताभ किरणें मेरे मुंह पर आ रहीं थी| में बड़े आनंद से उनका अनुभव करते हुए नींद... Read more
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय|
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय | शरम से आँखें झुकाता है प्रलय | जाग, सद्नायक बने औ बना दे| राष्ट्र-तम पर अरुण-आभा... Read more