चूम लेगा

चूम लेगा समन्दर लहर
पर तटों को न होगी खबर

हो गयी है मुहब्बत उसे
इसलिए बन गए हमसफर

बँध गए प्यार के वो बंधन
इसलिए चाहिए एक घर

दिल मुहब्बत गुलिस्तां बना
छोड़ जाऊँ न कोई डगर

इश्क उनका रहेगा अटल
राह आए न कोई नहर

जान कुर्बां लहर पर करे
चाह का वो दिखाए हुनर

प्रीत आरोह चढ़ने लगी
जी न पाये बिना हमसफर

Like 3 Comment 0
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share