चुप मत रहो !

चुप मत रहो !
————
अहंकारी को हंसता देखकर
विनम्र को सिसकता देखकर
चुप मत रहो !

गुनहगार को मस्त देखकर
बेगुनाह को पस्त देखकर
चुप मत रहो !

अभिमानी को उड़ता देखकर
स्वाभिमानी को गिरता देखकर
चुप मत रहो !

दबंग का सत्तासुख देखकर
निर्बल का फैला हाथ देखकर
चुप मत रहो !

धनी की मुटठी में आसमान देखकर
निर्धन को अन्न को तरसता देखकर
चुप मत रहो !

न्याय को झूठ संग खड़ा देखकर
अन्याय की सच पर मार देखकर
चुप मत रहो !

बेईमान को फलता देखकर
ईमानदार को मरता देखकर
चुप मत रहो !

असत्य की जय-जयकार देखकर
सत्य को रोता ज़ार-ज़ार देखकर
चुप मत रहो !

क्योंकि ये चुप्पी आत्मघाती है !

@Sugyata

Like Comment 2
Views 25

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share