चुनाव का महीना,राहुल करे शोर ---आर के रस्तोगी

(“सावन का महीना ,पवन करे शोर” गीत पर आधारित पैरोडी )

चुनाव का महीना,राहुल कर रहा शोर |
कांग्रेस कह रही देश का चोकीदार चोर ||

कैसी चुनावी चल रही है ये पुरवैया |
इकठ्ठे हो गये है नेता और छुटभैया ||
कर रहे है ये सब नंगा नाच |
पर सच पर आयेगी न आंच ||
पर चल रहा नही इनका जोर |
इनमे एक अलीबाबा बना है ||
बाकी है सब चालीस चोर |
चुनाव् का महीना …….

अमेठी से भाग रहा राहुल भैया |
कौन लगाये उसकी पार नैया ||
बहना भी जोर लगा रही |
उसको वायानाड ले जा रही ||
चुनाव की घटा है घनघोर |
पता नहीं जायेगी किस ओर ||
सभी नेता लगा रहे है जोर |
चुनाव का महीना ……

मोदी तो गये है आज विदेशवा |
पता नही क्या लाये रे संदेशवा ||
गठबंधन की नाव बैठे सब भैया |
बन रहे है सभी नेता नाव खिवैया ||
पता नही ले जायेगे किस ओर |
जनता की लहर है किस ओर ||
पर सबके मन में नाचे है मोर |
चुनाव का महीना ……

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Like 1 Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing