" --------------------------------------- चुनरी सरकी जाये " !!

दप दप करता रूप तुम्हारा , ऋतुओं सा बल खाये !
आग का गोला काहे बरसे , तुमसे सहा न जाये !!

नज़रें हैं बेताब बता दो , किसकी है अगवानी !
इंतज़ार का पल पल आखिर , हाथों में ने आये !!

बाग बगीचे पीछे छूटे , राह नई है पकड़ी !
आज हवा से करती बातें , चुनरी सरकी जाये !!

रंग बिरंगे परिधानों में , निकली हो सज़ धज कर !
आज मुसाफिर का कसूर क्या , राहें भूला जाये !!

कौन कोण से देखें तुमको , नाज़ों अदा कायम है !
यहां रूप की गागर देखो , लहराती बल खाये !!

कौन लक्ष्य ठाना है दिल में , किसको आज पता है !
अंतरतम के भाव तुम्हारे , हम तो जान न पाये !!

आज लबों पर है खामोशी , खुशियां भी गुमसुम हैं !
दूर का राही तुमसे कोई , ठगी नहीं कर जाये !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 124

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share