.
Skip to content

” चिड़िया चहकी , फुर्र हो गई ” !

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

कविता

January 10, 2017

पलना नहीं ,
गोद माँ की !
खुश नहीं ,
दादा दादी !
ख़ुशी पिता की ,
कपूर हो गयी !
बेटी दिल से –
दूर हो गई !!

दबी दबी सी ,
चाह रही !
वे उम्मीदें ,
अथाह रही !
उपलब्धियां जब ,
मेल धो गई !
बेटी नजरें –
नूर हो गई !!

बेटों को ,
सौगाते दी !
बदले में बस,
नमी मिली !
वृद्धाश्रम तक ,
दौड़ हो गयी !
बेटी गम से –
चूर हो गयी !!

अंतिम रस्म ,
अभी बाकी !
बेटों से ,
उम्मीदें ना जी !
काँधे तय हो ,
मुहीम हो गयी !
बेटी यों अब –
गुरुर हो गयी !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ
बधाई हो बधाई, बेटी घर पर आई बधाई हो बधाई, बेटी घर पर आई बेटा था घर का सूरज, रोशनी अब आई घर आँगन चौबारे... Read more
** बेटी का दर्द **
नई उम्मीदें नए सपने संजोती बेटी । शादी होकर जब ससुराल जाती बेटी ।। जन्मजात रिश्तों से दूर हो जाती बेटी । बहू बनते ही... Read more
नन्ही सी बेटी बड़ी हो गई अब तो पैरों पे अपने खड़ी हो गई थाम बाबुल की ऊँगली जो थी चल रही अपने ससुराल की... Read more
हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई
?क्यो बेटी पराई हो गई? हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई| बचपनसेपाला है जिसकोअब बही पराई होगई|| ???? तू कैसा निर्दयी... Read more