.
Skip to content

चिराग-ए-दीप

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 20, 2017

” चिराग-ए-दीप”
——————–

मैं तुझे !
तकलीफ नहीं देता !!
मगर !
तकलीफ मुझे भी है |
दिल से चाहता हूँ
तू खुश रहे सदा |
मगर !
मैंने कभी….
खुशी देखी ही नहीं !!
ना आए कभी
तेरी आँख में….
एक भी आँसू !
मगर !
बचपन का भीगा तकिया !
आज भी गीला है ||
मुझे गर्व है कि –
मैं तेरा पिता हूँ !
मगर !
नहीं जानता…..
प्रेम में पगा
साथ चलने वाला साया
पिता है !!
तेरी तरफ गुस्से में
देखकर भी डरता हूँ !
क्यों कि कोई घाव !!
मेरी पीठ पर…..
आज भी लगा है ||
वो प्यार जो तुझे देता हूँ !
वो तेरी ही अमानत है |
क्यों कि ?
तेरे जैसा प्यार
किसी ने नहीं दिया !
तू ही है !
जिसे एक पल न दिखूँ
तो रो देता है |
वरना मेरे लिए कभी
कौन रोया है ||
मेरे “ओज”……
तू “चिराग-ए-दीप” है !
और ओढ़े है……..
“मौज” का “आँचल” ||
——————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”
============================

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
ज़माने तेरी मिह्रबानी नहीं हूँ
शजर हूँ, तिही इत्रदानी नहीं हूँ चमन का हूँ गुल मर्तबानी नहीं हूँ ख़रा हूँ कभी भी मुझे आज़मा लो उतर जाने वाला मैं पानी... Read more
कायल हुआ हूँ
===========================     " कायल हुआ हूँ " --------------------------- तेरे हुस्न का , 'कायल' हुआ हूँ , नजर से तेरी ,'घायल' हुआ हूँ | छनकता हूँ !... Read more
मैं हूँ दीप वो जो सदा ही जला हूँ।
नहीं मैं रुकूंगा नहीं मैं रुका हूँ। सचाई के पथ पर सदा ही चला हूँ।। कमी ढूँढने में लगे क्यूं हो मेरी। कहा कब है... Read more
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ..
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ.. जीवन के उन्मादों को सहता जाता हूँ, कभी -२ तो डरता और सहमता भी हूँ, पर ऐसे मैं अपना दिल... Read more