मुक्तक · Reading time: 1 minute

चाहे जितने हो खूबसूरत

रोशन हो गैर जिससे वो शमा जलाता कौन है
अगर हो गम बेपनाह फिर मुस्कराता कौन है
**********************************
बेगैरत और बेअदब ,जो जीते हों अपने लिये
चाहे जितने हो खूबसूरत गले लगाता कौन है
**********************************
कपिल कुमार
07/10/2016

45 Views
Like
154 Posts · 7.8k Views
You may also like:
Loading...