Jul 18, 2016 · शेर

चाहत

18.07.16
तुम्हें टूट कर चाहने की सजा पाये हैं
अब भुला कर तुम्हें, टूटने की चाहत है,,,

शुचि(भवि)

1 Comment · 2 Views
Physics intellect,interested in reading and writing poems,strong belief in God's justice,love for humanity.
You may also like: