चाहत

वो छा गये है कोहरे की तरह मेरे चारो तरफ…
न कोई दूसरा दिखता है ना देखने की चाहत है…

1 View
You may also like: