Jul 13, 2020 · कविता
Reading time: 1 minute

चाहत

चाहत
*****

मैंने जिससे प्यार किया बस ,
उसमे तुझको पाया है।
नज़र पड़ी जिस पर जा मेरी,
नज़र वहाँ तू आया है।

और कहूँ मैं क्या अब तुझसे ,
बस तेरी दिवानी हूँ।
चाहत में अब तो तेरी ही
मैं तो पानी पानी हूँ

मीत चले आओ तुम अब तो ,
नींद मुझे ना आती है।
याद तुम्हारी अब तो पल पल ,
मेरा दिल बहलाती है

खबर जमाने की ना कोई,
ना खुद की अब चिंता है
इश्क़ हुआ है तुझसे यारा,
बस अब तू ही दिखता है।

बहुत परीक्षा लेली तुमने ,
और न मुझको अजमाओ।
हृदय बीच समाकर अपने,
संग पिया जी ले जाओ।

हाथ पकड़ लो आकर मेरा,
तड़पाना अब बन्द करो।
अब तो पीर हरो आ ‘माही’,
कोई तो प्रबन्ध करो।

© डॉ० प्रतिभा ‘माही’
24/4/2017

5 Likes · 6 Comments · 130 Views
Copy link to share
Dr. Pratibha Mahi
63 Posts · 4.4k Views
Follow 8 Followers
मैं प्रेम श्रृंगार लिखती हूँ...सुरों के साज़ लिखती हूँ... लिखती हूँ रब के अनमोल वचन....और... View full profile
You may also like: