.
Skip to content

चारदीवारी

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

लघु कथा

October 29, 2016

“चारदीवारी”

“ तुम लोग रोज रोज इतनी देर तक कहाँ गायब रहते हो शाम के गए रात ९ बजे घर में घुस रहे हो ? घर की याद नहीं आती तुम लोगों को ? रमेश तुम्ही समझाओ अपने घरवालों को, मैं तो समझा समझा कर थक गयी ” रामकिशन जी और सुशीला जी को खरीखोटी सुनाते हुए उनकी बहु ने कहा।

रमेश क्या कहता उनसे उसकी हालत तो दो पाटों के बीच फँसे गेहूं जैसी थी, उसने नजरे उठाकर माता पिता की तरफ देखा |

इससे पहले कि रमेश कुछ कहता पिताजी ने ही कहा, “ बहु घर की ही तो याद आती है मगर वहां का तो सब खेत खलिहान और हवेली बेचकर तुम्हारी इस ३ कमरों की कोठरी में लगा दिया | यहाँ चारदीवारी के सिवा है ही क्या ? सिर्फ चार ईंटें जोड़ लेने से घर नहीं बनता, परिवार के लोगों में आपसी समझ, प्यार दुलार और सम्मान से घर बनता है | और बहु क्या हम सिर्फ रमेश के घरवाले हैं ???”

“सन्दीप कुमार”

मौलिक व अप्रकाशित
३०.०८.२०१६

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
शायरी
जी न पाओगी तुम मेरे बिना ध्यान रखना रोज रोज मुझे याद न किया करो तुम ऐसे बड़ा ही बेदर्द है इतना लगाव रखना दिल... Read more
जी” का काव्य में प्रयोग
‘ तुम आवाज दे बुलाते सूनो जी मैं जबाब देती जी कहती बोलो जी कितना प्रिय लगता जी कहना हाँ जी में जी मिलाना फिर... Read more
जी का काव्य में प्रयोग
तुम आवाज दे बुलाते सूनो जी मैं जबाब देती जी कहती बोलो जी कितना प्रिय लगता जी कहना हाँ जी में जी मिलाना फिर एक... Read more
इक झलक हमको दिखाओ तुम जरा
गजल बह्र-2122 2122 212 काफिया-आओ रदीफ़-तुम जरा ^^^^^^^^^^^^^^^^^ रुख से पर्दा तो हटाओ तुम जरा इक झलक हमको दिखाओ तुम जरा। रौशनी में जी मेरा... Read more