चापलूसी...."एक कला"

चापलूसी !
माना एक बला है
किन्तु गज़ब की कला है
जो –
हर किसी को आती नहीं
और
कइयों की जाती नहीं |
ना योग्यता
ना डिग्री
ना पूंजी
ना पहचान का पर्चा
कुछ खास नहीं मापदंड !
निशुल्क
बिलकुल निशुल्क
सिर्फ और सिर्फ –
लपरता जीभ की
दीनता चेहरे की
दांतों का खिसियाना
आँखों का गड़ना
हाथ साक्षात दंडवत |
बस यही सब
मौके से दौड़ जाना
असफलता का ठीकरा
औरों के सिर फोड़ना
यही मंत्र रखना –
यस बॉस, यस बॉस !!
दुनिया इन्हीं की
यही पनपते हैं |
इनकी दोस्ती पुलिस जैसी
अच्छी भी
बुरी भी |
साथ रहो या
बचके
लेकिन- ज़रा सोचके |
आपका निर्णय
आपकी ज़िंदगी !!

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 0
Views 607

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share