"चाँद"

आजकल चाँद गुनगुनाता नहीं,
मखमली सेज बिछाता नहीं,
शोर का ज़ोर है वादियों में,
रूठी चाँदनी को मनाता नहीं।
@निधि…

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing