31.5k Members 51.9k Posts

चाँद सा मुखड़ा तेरा

सुंदर सलोनी सूरत है उर चाँद सा मुखड़ा तेरा
दिल — जो हेै — मेरा दिलदार मगर है तेरा

प्यार मेरा तू मगर परवाना दिल है ये तेरा
तू जिंदगी मेरी मगर जीवन है सारा ये तेरा

तू गोपी हेै गौ-धाम की कृष्णा है मगर ये तेरा
खेत है मेरा मगर खलियान भी है ये तेरा

रात है मेरी मगर ये चाँद हंसी है तेरा
सुंदर सलोनी सूरत है उर चाँद सा मुखड़ा तेरा

तू पासआ लगजा गले दिलवर है बैठा ये तेरा
ये आन है मेरी मगर अरमान सारा है तेरी

135 Views
कृष्णकांत गुर्जर
कृष्णकांत गुर्जर
211 Posts · 11.2k Views
संप्रति - शिक्षक संचालक -G.v.n.school dungriya लेखन विधा- लेख, मुक्तक, कविता,ग़ज़ल,दोहे, लोकगीत भाषा शैली -...
You may also like: