" ------------------------------------------------- चाँद भी है शर्माया " !!

घूँघट हटा चांदनी बिखरी , शीतल शीतल छाया !
यहां वहां फैला उजियारा , चांद भी है शर्माया !!

तेरे नाम पर सजधज सारी , तेरा नाम जुबां पर !
तेरे नाम पर जग भूली हूँ , दिल में तुझे बसाया !!

ऋतुओं ने भी रंग बदला है , फितरत सबकी बदली !
नीयत पर विश्वास नहीं अब , सबका मन भरमाया !!

जहां नेह संग पले समर्पण , प्यार वहीं सजता है !
आंखों में विश्वास बसे तो , सब कुछ हासिल पाया !!

हाथ थाम कर साथ चले हैं , मन्ज़िल हमको पाना !
अगर भरोसा कायम रक्खा , लक्ष्य हाथ है आया !!

एक दूजे का साथ रहा तो , कठिन डगर है आसां !
तीज मने त्यौहार मनेगें , पल पल है हरषाया !!

तेरी खुशियां मेरी खुशियां , वारें एक दूजे पर !
मुस्कानों को पलते देखा , मन अपना सरसाया !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 154

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share