.
Skip to content

*चाँद को देखकर*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

July 31, 2016

चाँद को देखकर चाँद कहने लगा
ईद की ही तरह अब तू’ मिलने लगा
देख लूँ आज जी भर उसे प्यार से
जोर से दिल हमारा धड़कने लगा
रात ढलने लगी फूल मुरझा गये
यार मेरा जुदा जब यूँ होने लगा
तोड़कर दिल हमारा गया बेवफा
टूटकर काँच सा ये बिखरने लगा
जिन्दगी में कई साज होते हुए
बंदगी का नया साज सजने लगा
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
चाँद को देखकर चाँद कहने लगा,
तरही गजल- चाँद को देखकर चाँद कहने लगा, ईद की ही तरह अब तु मिलने लगा, ------------------------------------------------ बेरुखी से हमें देख के चल दिये, दिल... Read more
एक अदना दिल तो था लेकिन मुझे टूटा लगा
अब वही बेहतर बताएगा के उसको क्या लगा इश्क़ में नुक़्सान मेरा पर मुझे अच्छा लगा यूँ शिकन आई जबीं पर उसके, मुझको देखकर वह... Read more
चाँद दिन में निकलने लगा है !!
चाँद दिन में निकलने लगा है!! चाँद दिन में निकलने लगा है वो तो दिल में उतरने लगा है ।। छा गया इश्क़ ए आसमां... Read more
चाँद दिन में निकलने लगा है
मेरी कलम से ... चाँद दिन में निकलने लगा है वो तो दिल में उतरने लगा है ।। छा गया इश्क़ ए आसमां पे खूब... Read more