चाँद अब रोशनी नहीं देता

चाँद अब रौशनी नहीं देता
अब तो एक आग सी निकलती है ।
देख लो आके उनके आँगन में
बर्फ अब सर्दियों में गलती है ।।
किसको जाना कहाँ ?कहाँ मंजिल?
हर गली रोज ढलती है ।
बैठो गर पाना है पता मंजिल
यहाँ स्वारथ की रेल चलती है।।
तेल में डूब और उसे पीकर
बाती दीये की क्यों मचलती है ।
बात दुनियां की भी निराली है
अपना कह कर उन्हीं को छलती है ।।
क्यों करे बात कोई दरिया की
जहां कागज की नाव चलती है ।
सच की दुनियां तो अब हुई तन्हां
बात अब झूठ की ही चलती है ।।

180 Views
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में...
You may also like: