Skip to content

चल-चले मिले कहीं

Author Rishi(ऋषि के.सी.) K.C.

Author Rishi(ऋषि के.सी.) K.C.

कविता

July 28, 2017

चल-चले मिले कहीं
न तेरा आश्रय न मेरा,
प्रीति-गीत गाए कहीं
चल-चले मिले कहीं।

सच-झूठ की फिकर नही
जिस राहा पर मिला,
मैं अजनबी नही,
चल-चले मिले कहीं।।

तेरे सपने मेरे अपने
यादों के संग चले,
आ फ़िर मिले कहीं,
चल-चले मिले कहीं।।।
ऋषि के.सी.?????

Author
Author Rishi(ऋषि के.सी.) K.C.
नाम-ऋषि के.सी. जनम-१ जनवर, २०००। शिक्षा - xii स्कूल - राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय कसान पिता का नाम श्री रामू खत्री माता का नाम - श्रीमती सुषमा देवी पता-करेंदादा स्यांगजा(पोखरा) नेपाल
Recommended Posts
बज़म-ए-दुनियाँ से दूर कहीं ले चल
बज़म-ए-दुनियाँ से दूर कहीं ले चल महकते गुल का सुरूर कहीं ले चल ख्वाहिश-ए-जन्नत है यार मुझे भी इस मोहब्बत का नूर कहीं ले चल... Read more
चलो चले हम, गाँव चले हम! आओ चले हम, गाँव चले हम! ये झुटी नगरी, छोड़ चले हम! ये झुटे सपने, तोड़ चले हम! चलो... Read more
चल जरा चल जरा
चल जरा चल जरा रुक जरा देख जरा घाम होने को आयी सुखा कंठ जरा फुरसत मे आ दो घुंट लगा ठंड छाव मे बैठ... Read more
विधा आओ चले कहीं दूर देश
आओ चले कहीं दूर देश पंख फैला विचरण करते आओ चले कही दूर देश हिंद का शांति संदेश पहुँचाते चलो शांति दूत बन जाते आओ... Read more