कविता · Reading time: 1 minute

चलो ना मां

चलो ना मां! चलने से पहले
एक बार मिल लेते हैं |
मैं अब मुझ जैसा नहीं ,
तुम भी कहा तुम लगती हो ,
चलो ना !बदलने से पहले
एक बार मिल लेते हैं |

मैं भी खड़ा रहूंगा यही पर ,
तुम भी कहीं न जाओगी ,
पर 19 वें जन्मदिवस पर ,
मुझे पहले जैसा न पाओगी |

तुम भी दूर अब निकल चली हो ,
अर्धशतक छूने चली |
चलो ना उम्र ढलने से पहले
एक बार मिल लेते हैं
चलो ना मां चलने से पहले
एक बार मिल लेते हैं |

3 Comments · 43 Views
Like
10 Posts · 444 Views
You may also like:
Loading...