.
Skip to content

चलो आज कही चलते है

pratik jangid

pratik jangid

कहानी

May 9, 2017

चलो आज कही चलते है ।
कुछ मेरी कुछ तुम्हरी सुनते है सुनाते है ।
इन डगर पर हाथो में हाथ पकड़कर कुछ गनगुनाते है ।
चलो आज कही घूम कर आते है ।
कुछ खटी मीठी यादो के लम्हो में हो कर आते है ।
कुछ किस्से दोहराते है ।
तुम्हे याद है उस नदी के किनारे पर फिसलते हुए तुमने मेरा हाथ थाम था । चलो आज उस नदी के पास कुछ वक्क्त बिताकर आते है ।
……चलो आज कही चलकर आते है ।
बिते हुए लम्हो को थोड़ा सा घूमकर आते है ।

Author
pratik jangid
Recommended Posts
**पास बुलाते है**
**पास बुलाते है** चलो आज खुद अपनी किस्मत आजमाते है,,,, जो दूर जा रहा है उसको पास बुलाते है,,,, दिल उसका बदल गया मेरे दिल... Read more
बचपन
खेल में आज भी लगा है मन ! है अभी भी यही कही बचपन ! भूलते ही नहीं पुराने दिन ! है कही दिल में... Read more
चलो री सखी...
चलो री सखी.... ...................................... चलो री सखी मीलजुल छेड़े आज मीलजुल छेंड़े, मिलजुल छेड़े -2 मीलजुल छेड़े आज कृष्ण मुरारी नंद के लाला है रसिया... Read more
होली की याद
होलि का त्यौहार हे आया सब के मन को भाया है। नये विचारो से रंगने का फिर से मौसम आया है।। कभी था गौबर कभी... Read more