.
Skip to content

चले राह पर धर्म की

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

March 21, 2017

चले राह पर धर्म की,करे निरन्तर काम !
सूरज की तकदीर मे,कहाँ लिखा आराम ! !

लडते हैं बाजार मे,..ज्यों सरकारी सांड !
टीवी चैनल पर लडें,इसी भांति कुछ भांड !!

यही गनीमत है बड़ीं, आज़ादी पश्चात !
ले लेता हूँ सांस मै,कर लेता हूँ बात !!
रमेश शर्मा.

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
मुक्तक
तेरे ख्यालों की मैं राह ढूंढ लेता हूँ! तेरे जख्मों की मैं आह ढूंढ़ लेता हूँ! ढूंढ लेती हैं मुझको तन्हाइयाँ जब भी, मयकदों में... Read more
सहेज लेता हूँ !
सहेज लेता हूँ ! ---------- सहेज लेता हूँ ! इन वृक्षों को !! अपने लिए... अपनों के लिए ! जग के लिए... सब के लिए... Read more
चन्द अल्फाज
चन्द अल्फाजो को संवार लेता हूँ याद तेरी यूं दिल में उतार लेता हूँ ************************ यादें तेरी बहुत है जीने के लिये शब् ओ सहर... Read more
मुक्तक
तेरे दर्द को मैं ईनाम समझ लेता हूँ! तेरे प्यार को मैं इल्जाम समझ लेता हूँ! सब्र टूट जाता है जब कभी पैमानों का, जिन्दगी... Read more