कविता · Reading time: 1 minute

चले पिचकारी प्रेम रंग की

चले पिचकारी प्रेमरंग की
समता रूपी उड़े गुलाल ।
बैर भाव तज होली खेलें
तज दें मन के सभी मलाल ।।

मन एक बर्तन वाणी पानी
प्रेम से प्रेमरंग दो डाल ।
राम रहीम एक संग खेलें
प्रेम की रंग गुलाल ।।

होली के पावन पर्व की आप सभी को मंगलमयी शुभकामनायें ।
आपका
सुनील सोनी “सागर”
चीचली(म.प्र.)

1 Like · 1 Comment · 171 Views
Like
Author
15 Posts · 2.6k Views
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में aadyapak के पद पर कार्यरत । मोबाइल ~9981272637
You may also like:
Loading...