23.7k Members 49.8k Posts

चलाते पीठ पर उनको तो खंजर हमने देखा है

बदलता वक़्त रहता है ये तेवर हमने देखे हैं।
नदी नालों न उफनाओ समंदर हमने देखे हैं।।

हुए कितने ज़माने में चले जो जीतने दुनिया ।
गये हैं हाथ खाली वो सिकंदर हमने देखे हैं।।

अगर हम सामने हो तो करेंगे बात वो मीठी ।
चलाते पीठ पर उनको तो ख़ंजर हमने देखे हैं।।

मिली है जिंदगी तुझको इसे भरपूर जी ले तूँ।
बिगड़ता बनता रहता है मुकद्दर हमने देखे हैं।।

लिया है ‘कल्प’ ने संकल्प ये धरती बचाने का।
न कर खिलवाड़ कुदरत से बवंडर हमने देखे हैं।।

✍🏻अरविंद राजपूत ‘कल्प’

Like Comment 0
Views 109

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
साईंखेड़ा जिला-नरसिहपुर म.प्र.
215 Posts · 9.8k Views
अध्यापक B.Sc., M.A. (English), B.Ed. शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय साईंखेड़ा Books: सम्पादक कल्पतरु - एक पर्यावरणीय...