Skip to content

** चलन है प्यार में रुसवाई का ***

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

मुक्तक

March 18, 2017

पिघलती है बर्फ तो पिघलने दे
सुलगती है आग तो सुलगने दे
दिल पिघले तो कुछ बने बात
जज़्बात बहके तो बहकने दे ।।

सिलसिला मुहब्बत का चलने दे
शामेउम्र का क्या,अब ढलने दे
चलन है प्यार में रुसवाई का
अरमान कुछ दिल में पलने दे ।।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
दिल ये मेरी  नज़र कर दे
दिल ये मेरी नज़र कर दे मुझको मेरी ख़बर कर दे दीवाना तुझको सदा रखूं मुझमें ऐसा हुनर कर दे जब- जब याद तेरी आये... Read more
ग़ज़ल
ए मुहब्बत ज़रा करम कर दे, इश्क़ को मेरे मोहतरम कर दे। कर अता वस्ल के हसीं लम्हे, दूर फ़ुर्क़त का दिल से गम कर... Read more
उरियां क़बा न दे
मैला लिबास दे मुझे उरियाँ क़बा न दे दौलत दे बे शुमार ज़रा सा नशा न दे डालूं जिधर नज़र तेरी रहमत है बे शुमार... Read more
ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे,
ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे, तू उसके खयालो को रवाना कर दे, गर बुलाना हो निगाहों से इशारा कर दे, दिल में सुलगते शोलो... Read more