.
Skip to content

** चलना थोड़ी दूर था **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

गज़ल/गीतिका

March 6, 2017

चलना थोड़ी दूर था
उसमे ही
क़दम लड़खड़ा गये
फिर क्या जिंदगीभर
साथ निभाओगे तुम
याद करके वो वादे
और कसमे हमनशीं
कभी तुम पे तो कभी
खुद पे आती हँसी
इब्तिदा-ए-इश्क में खायी थी
कसमे संग जीने मरने की
आज क़दम दो चलना
साथ में गवारा नहीं
तुम्हारे शिद्दत-ए-इश्क को
समझूं क्या
सिर्फ जिस्म तुष्टि का बहाना कोई
चलना थोड़ी दूर था
वरना संग चलना तुम्हारे क्या
दौड़े आते तुम्हारी इक सदा पे हम
यूँ राहे इश्क में संग जीते और मरते हम
यूँ तुम्हारी तरहा रुकने का ना करते बहाना
चलना थोड़ी दूर था उसमें ही क़दम लड़खड़ा गये
चलना थोड़ी दूर था
चलना थोड़ी दूर था ।।

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल
गजल : दूरी इतनी ठीक नहीं है कुछ तो साथ निभाओ चार कदम आगे आया, तुम एक कदम तो आओ टूटे पत्ते सा गिरता हूं... Read more
कदम लडखडाये तो भी आगे चलना होता है
क़दम लडखडाये तो सम्भलना होता है मंज़िल हो दूर फिर भी आगे चलना होता है हर कदम पर गिराने वाले मिल ही जाते है उनको... Read more
आँचल संभाल कर चलना : कविता
आँचल संभाल कर चलना हवाएँ तेज़ हैं। कमसिन उम्र की होती ये अदाएँ तेज़ हैं।। कलियों की रुत पर,भ्रमरों की नज़ाकतें। आने लगी हैं सुनिए,सरेआम... Read more
मुझसे रु-ब-रु तो हो
आए हो मुझसे मिलने तुम मुद्दतों के बाद दे सकते क्या वक़्त का सौग़ात भी नहीं/ आते ही तुम क्यूँ कह रहे जाने को तो... Read more