.
Skip to content

चलता रह घिसटता रह…. जीवन भर..!

रीतेश माधव

रीतेश माधव

कविता

April 29, 2017

भूल गया मैं अपना पथ और मंजिल भी
और ना रही जीवन मे कुछ भी
उत्साह और उमंग सी…

किंतु रुकना ठहरना , मौत से भी है बदतर। रीतेश!चलता रह घिसटता रह जीवन भर..

मत डर व्यंग्य या ईष्या के अवरोधों से तू,
बढता चल तू,झटकते हुए शब्द बाणों को।

क्षण में सब खत्म हो जाएंगे ये तेरे अवरोध,
विरोध में खड़े सब क्षण-भंगुर से..
रीतेश! चलता रह घिसटता रह जीवन भर..

यदि तू रुक पडेगा थक कर,
ईष्या और दम्भ से भरे लोगों के डर,
नाज तुझ पे करने वाले ही देखेंगे तुझ को हँस-हँस कर।
रीतेश! चलता रह घिसटता रह जीवन भर!

और मिट गया चलते चलते,
मंजिल पथ तय करते करते,

तुझे,तेरी संघर्ष याद रहेंगे लोग..
नाम तेरे रखेंगे सर आंखों पर।
रीतेश!चलता रह घिसटता रह जीवन भर!

~~~~रीतेश माधव

Author
Recommended Posts
चलता रह घिसटता रह....जीवन भर...!
भूल गया मैं अपना पथ और मंजिल भी और ना रही जीवन मे कुछ भी उत्साह और उमंग सी... किंतु रुकना ठहरना , मौत से... Read more
मैं कविता करूँ, तू हँसता रह...
???? मैं कविता करूँ तू हँसता रह..... ? मेरी कोई भी गलती पर बेझिझक तू टोकता रह.... ? मुद्तों से बैठकर मुझ में मुझे तू... Read more
मुक्तक
जब पुकारेगा खुदा सब कुछ धरा रह जायेगा छोड़ दुनियाँ रूह से अपनी जुदा रह जायेगा रुप अपना तू निखारे देख कर के आयना एक... Read more
!!~ हे गंगा माँ  तुझ बिन सब प्यासे ~!!
अगर तू नहीं तो कैसे बुझेगी प्यास इस जग की तू है तो जिदगी है सब की तेरी महत्ता को जानते सब हैं फिर भी... Read more