मुक्तक · Reading time: 1 minute

चन्द तंज़

आजकल हसीनाएं कुछ ज्यादा अक्लमंद हो गई है उन्हें सब आश़िक अक्ल़ से बीमार नज़र आते हैं।

वो देख कर भी अनदेखा कर जाते हैं शायद उन्होंने मुझसे ज्यादा दौलत कमा ली है।

उन्होंने फ़िक्र को धुएँ में उड़ा उड़ा कर बैठे-बिठाए बीमारी को दावत दे दी है ।

ग़म को ग़लत करने के लिए उन्होंने हाला पी पीकर अपना ये हाल कर लिया है के हाल़ात संभलते नहीं।

इश्क़ ने मुझे इस क़दर गिरफ़्तार किया है के मुझ पर खुद का इख़्तियार नहीं है ।

3 Likes · 53 Views
Like
Author
375 Posts · 23.3k Views
An ex banker and financial consultant.Presently engaged as Director in Vanguard Business School at Bangalore. Hobbies includes writing in self blog shyam53blogspot.blogspot, singing ,and meeting people and travelling and exploring…
You may also like:
Loading...