मुक्तक · Reading time: 1 minute

चन्द अल्फाज

चन्द अल्फाजो को संवार लेता हूँ
याद तेरी यूं दिल में उतार लेता हूँ
************************
यादें तेरी बहुत है जीने के लिये
शब् ओ सहर यूं ही गुजार लेता हूँ
************************
कपिल कुमार
28/07/2016

24 Views
Like
154 Posts · 6.1k Views
You may also like:
Loading...