23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

चन्दा मामा

चन्दा मामा जल्दी आओ
दूध-भात भी संग में लाओ
मुझको जोर से भूख लगी है
मम्मी कामों में उलझी है
पापा ऑफिस से ना लौटे
भैया-दी लपटप पर बैठे
पैर पटककर चिल्लाता हूँ
फिर भी नहीं प्यार पाता हूँ
दादा-दादी गाँव पड़े हैं
नाना-नानी दूर बसे हैं
अब मैं किसपर आस लगाऊँ
किसको देखूँ फिर चिल्लाऊँ
तुम ही एक सहारा लगते
सबसे प्यारा-न्यारा लगते
आओ जल्दी से आ जाओ
मुझको दिल से गले लगाओ
तेरे कन्धे पर चढ़कर के
हँसी-ठिठोली कर कर कर के
सारी दुनिया को देखूँगा
अपने बचपन को पा लूँगा।

1 Like · 2 Comments · 12 Views
Diwakar Ray
Diwakar Ray
2 Posts · 112 Views
You may also like: